Chunariya Lyrics – Mango Talkies – Prateeksha Srivastava & Shivang Mathur

Chunariya Lyrics – Mango Talkies – Prateeksha Srivastava & Shivang Mathur

Chunariya Lyrics - Mango Talkies - Prateeksha Srivastava & Shivang Mathur

Singer Prateeksha Srivastava & Shivang Mathur
Music Shivang Mathur
Song Writer Shayra Apoorva

Chunariya LyricsMango Talkies – Prateeksha Srivastava & Shivang Mathur: Presenting the lyrics of the song “Chunariya” from the Movie Mango Talkies sung by Prateeksha Srivastava & Shivang Mathur.

Chunariya Lyrics – Mango Talkies – Prateeksha Srivastava & Shivang Mathur

baarishen rangon ko talaashen ret pe ja gire
na rahe jameen par
aisee kyon baarish aavaaree koee jaane na
jaise lage choonar banjaaree rango ke bina
aankhiyaan ye rango ko tarase aanshuon se ja mile
ishq ko chhookar lautee hain dardo mein mile
aisee kyon avaaree koee jaane na
jaise lage choonar banjaaree rango ke bina

chunariya berang see askon ke hain rang see-2
berang see berang see

andheron se ladatee rahee jalatee raheen palaken
kirane kyon phir lautee nahin dekhoon jara chalake
taare yahaan sab chaahen raaten koee chunata nahin
rab koee dooja dhoondho rab to ye sunata nahin
laphzo mein bahata jo laphzo mein banata nahin
meree cheekhen koee sunata nahin

jakhmee see lautee har dua vo lab tak thee jo chalee
tootee see bikharee see tukado mein hai milee
saaree duaen kyon ,,,, koee jaane na
jaise lage choonar banjaaree rango ke bina
chunariya berang see askon ke hain rang see-2
chunariya berang see askon ke hain rang see-2

Latest Lyrics Then Click Here

चुनरिया Lyrics In Hindi – Mango Talkies – Prateeksha Srivastava & Shivang Mathur

बारिशें रंगों को तलाशें रेत पे जा गिरे 
ना रहे जमीन पर 
ऐसी क्यों बारिश आवारी कोई जाने न 
जैसे लगे चूनर बंजारी रंगो के बिना
आंखियां ये रंगो को तरसे आंशुओं से जा मिले 
इश्क़ को छूकर लौटी हैं दर्दो में मिले 
ऐसी क्यों अवारी कोई जाने ना
जैसे लगे चूनर बंजारी रंगो के बिना
चुनरिया बेरंग सी अस्कों के हैं रंग सी-२
बेरंग सी बेरंग सी 
अंधेरों से लड़ती रही जलती रहीं पलकें 
किरणे क्यों फिर लौटी नहीं देखूं जरा चलके 
तारे यहाँ सब चाहें रातें कोई चुनता नहीं 
रब कोई दूजा ढूंढो रब तो ये सुनता नहीं 
लफ्ज़ो में बहता जो लफ्ज़ो में बनता नहीं 
मेरी चीखें कोई सुनता नहीं 
जख्मी सी लौटी हर दुआ वो लब तक थी जो चली 
टूटी सी बिखरी सी टुकड़ो में है मिली 
सारी दुआएं क्यों ,,,, कोई जाने ना 
जैसे लगे चूनर बंजारी रंगो के बिना
चुनरिया बेरंग सी अस्कों के हैं रंग सी-२
चुनरिया बेरंग सी अस्कों के हैं रंग सी-२

Sharing Is Caring:

Leave a Comment

अनुपमा में शिवांगी जोशी की एंट्री पर ये क्या बोल गए मेकर्स किंजल की सौतन बनी Shivangi Joshi? तोषू की सीक्रेट गर्लफ्रेंड का राज Shivangi Joshi कभी नहीं बनना चाहती थीं एक्ट्रेस, लाखों में कमा रही है बॉलीवुड इंडस्ट्री के ये हैं पजेसिव लवर्स उर्फी जावेद का डिस्को बॉल स्टाइल देखते ही चकराया फैंस का दिमाग