मुकेश अंबानी सिर्फ देश के सबसे अमीर इंसान हैं। आमतौर पर ये मान्यता है कि लोग जितने अमीर होते हैं उनमें उतना ही घमंड होता है, लेकिन मुकेश अंबानी में न तो घमंड है और न ही उन्हें कभी कोई ऐसी हरकत करते देखा गया है जो अन्य लोगों को नुकसान पहुंचाए। 

मुकेश अंबानी और उनका परिवार बहुत ही साधारण जीवन बिताते हैं। भले ही उनके पास दुनिया के सबसे महंगे मकानों में से एक है, लेकिन वो अपने परिवार के साथ समय बिताने और एक साधारण जीवन शैली का पालन करने से पीछे नहीं हटते हैं।

मुकेश अंबानी को हमेशा एक पारिवारिक इंसान की तरह देखा गया है और उनके अंदर अभी भी वो सारे गुण हैं जो धीरूभाई अंबानी ने उन्हें सिखाए थे। 

मुकेश अंबानी और नीता अंबानी अपने बच्चों को भी उसी तरह से व्यवहार का ज्ञान देते आए हैं जिस तरह से धीरूभाई अंबानी और कोकीलाबेन अंबानी ने मुकेश को दिया है। 

सिमी ग्रेवाल के शो RENDEZVOUS में मुकेश और नीता अंबानी ने एक ऐसे ही किस्से को साझा किया था जहां वो आकाश अंबानी को व्यवहारिक ज्ञान के बारे में बता रहे थे। 

मुकेश अंबानी ने इस शो में कहा कि, 'मैं कोशिश करता हूं कि मैं कभी किसी से गलत तरीके से बात न करूं और किसी को गुस्सा न दिखाऊं। अगर ऐसा कभी हुआ तो भी मुझे माफी मांगने में कभी हिचकिचाहट नहीं होती भले ही वो कोई भी हो।'

इसी बात पर नीता अंबानी ने ये बताया कि किस तरह से मुकेश अंबानी ने आकाश अंबानी से वाचमैन से माफी मांगने को कहा था। 

नीता अंबानी ने सिमी ग्रेवाल के शो में इस किस्से के बारे में बताते हुए कहा कि, 'आकाश अंबानी एक दिन फोन पर नीचे वॉचमैन से बात कर रहे थे और उनकी आवाज़ काफी ऊंची हो गई थी। 

मुकेश अंबानी ये देख रहे थे और जैसे ही आकाश ने फोन रखा वैसे ही मुकेश ने आकाश से कहा कि वो नीचे जाएं और वाचमैन से माफी मांगे। मुकेश को ये बिल्कुल पसंद नहीं आया कि आकाश इस लहज़े में वॉचमैन को डांट रहे थे।'

नीता अंबानी ने कहा कि वो भी दूर से ये सब कुछ देख रही थीं और उन्हें लगा कि ये सही है और आकाश को माफी मांगनी चाहिए। 

ये किस्सा बताता है कि आकाश अंबानी, ईशा अंबानी और अनंत अंबानी को जीवन का पाठ पढ़ाने के लिए मुकेश और नीता ने कितनी मेहनत की है। 

जिस तरह से हमने मुकेश अंबानी की बात सुनी कि उन्होंने कैसे अपने बेटे आकाश को सज़ा दी और वॉचमैन से माफी मांगने को कहा। इसी तरह धीरूभाई अंबानी ने भी कभी अपने दोनों बेटों को सज़ा दी थी। धीरूभाई अंबानी ने पूरे दो दिन उन्हें गराज में रहने को कहा था।

सिमी ग्रेवाल के ही इस शो में मुकेश अंबानी ने एक किस्से के बारे में जिक्र किया। मुकेश अंबानी ने कहा कि, 'मैं उस समय 11 साल का था और अनिल 9 साल के थे। हमारे घर मेहमान आए हुए थे और मेरी मां उन्हें खाना सर्व कर रही थीं।

हम दोनों ने उनके सामने बहुत बदमाशी की और मेहमानों के खाने से पहले हमने खाना भी शुरू कर दिया और हमारे पिता ने बस हमसे ये कहा कि शांत हो जाओ। अगले दिन वो बहुत ज्यादा गुस्सा हुए और कहा कि तुम दोनों गराज में समय बिताओगे और दो दिनों तक वहीं रहोगे जब तक तुम्हें सही ढंग समझ में नहीं आ जाता।

मुकेश ने बताया कि उनकी मां कोकीला बेन अंबानी ने काफी मिन्नतें की, लेकिन धीरूभाई अपनी बात पर अडिग थे। दो दिन वाकई दोनों बेटों को गराज में रहना पड़ा और सादा खाना खाना पड़ा।' मुकेश अंबानी के अनुसार उस दिन उन दोनों ने बहुत ही जरूरी बात सीखी।

परिवार और व्यवहार के जो नियम धीरूभाई अंबानी ने मुकेश और अनिल अंबानी को शुरुआत में सिखाए थे वो अभी तक बाकी हैं।  

ये 5 चीजें साबित करती हैं कि नीता अंबानी हैं बहुत ही अच्‍छी सासू मां